अब बिहार के सरकारी कॉलेज भी होंगे स्मार्ट। सभी प्रमुख कॉलेजों को दिए जा रहे डिजिटल बोर्ड।

आजकल शिक्षा में आधुनिक और डिजिटल तकनीक का इस्तेमाल काफी जरूरी हो गया है। इसीलिए बिहार के सरकारी कॉलेजों को भी डिजिटल तकनीक से लैस कर स्मार्ट बनाने की योजना है। इसके लिए विशेष प्रकार की एलइडी स्क्रीन या टीवी उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इसे इंटरेक्टिव प्लैट पैनल डिस्प्ले का नाम दिया रहा है। अलग-अलग विषयों के प्रोफ़ेसर इसका इस्तेमाल बेहतर ढंग से पढ़ाई के लिए करेंगे। बिहार उच्चतर शिक्षा परिषद के निदेशक असंगबा चुबाआओ ने इस संदर्भ में विश्वविद्यालयों के कुलपति और संबंधित कॉलेजों के प्राचार्यों को आधिकारिक पत्र लिख दिया है।

पहले चरण में इन महाविद्यालयों को मिलेंगे डिजिटल बोर्ड।

बता दें कि इस तरह के बोर्ड सर्वप्रथम पहले चरण में पटना वीमेंस कॉलेज, एएन कॉलेज पटना, सीएम साइंस कॉलेज दरभंगा, कॉलेज ऑफ कॉमर्स पटना, मारवाड़ी कॉलेज भागलपुर, सुंदरवती महिला कॉलेज भागलपुर, एचडी जैन कॉलेज आरा, जगजीवन कॉलेज आरा, लक्ष्मीनारायण दुबे कॉलेज मोतिहारी, मगध महिला कॉलेज पटना, महाराज लक्ष्मीश्वर सिंह मेमोरियल कॉलेज दरभंगा, महिला शिल्प कला भवन कॉलेज मुजफ्फरपुर, नालंदा कॉलेज नालंदा, सबौर कॉलेज सबौर, शेरशाह कॉलेज सासाराम, श्री अरविंद महिला कॉलेज पटना और श्री नारायण सिंह कॉलेज मोतिहारी को दिये जाने हैं। इसके अलावा सभी परंपरागत विश्वविद्यालय को पैनल डिस्प्ले बोर्ड दिये जायेंगे। प्रत्येक विश्वविद्यालय व कॉलेज में पांच-पांच डिस्प्ले या डिजिटल बोर्ड मुहैया कराये जाने हैं।

प्राध्यापकों को दी जाएगी ट्रेनिंग।

इस तरह कॉलेजों व विश्वविद्यालयों से ब्लैक बोर्ड की विदाई की तैयारी की जा रही है। प्राध्यापकों को इस बोर्ड से पढ़ाई के लिए ट्रेनिंग भी दिया जायेगा। उल्लेखनीय है कि बिहार के माध्यमिक स्कूलों में स्मार्ट कक्षाएं शुरू की गयी हैं। इसमें डिजिटल डिस्प्ले की जगह टीवी का इस्तेमाल किया जा रहा है।