जेल से बाहर आए राम रहीम ने हनीप्रीत का नाम बदलकर “रूहानी दीदी” रखा। बोला, गद्दी पर मैं ही रहूंगा हमेशा।

अपनी दो शिष्यायों से बलात्कार और एक अन्य हत्या के मामले में सजा काट रहा डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम ने पैरोल पर बाहर आने के बाद मुंहबोली बेटी हनीप्रीत का नाम बदलकर रूहानी दीदी रख दिया है। डेरा प्रमुख ने ऑनलाइन आकर कहा कि बेटी हनीप्रीत अब रूहानी दीदी के नाम से जानी जाएगी। सत्संग में राम रहीम ने कहा कि साध संगत भी जानती है। हमारी बिटिया का नाम हनीप्रीत है, धर्म की बेटी है और मुख्य शिष्या है।अब हमने रुहानी दीदी नाम दिया है। ताकि आप आसानी से नाम ले सकें।

बोला, गद्दी पर हम ही रहेंगे हमेशा।

बता दें कि इधर डेरा सच्चा सौदा के सत्संग में हनीप्रीत की लगातार ब्रांडिंग की जा रही थी। ऐसे में कयास लगाए जा रहे थे कि हनीप्रीत को डेरा की गद्दी सौंप दी जाएगी। राम रहीम से डेरे की गद्दी बदले जाने वाले कयासों को लेकर भी सवाल पूछे गए। इस पर राम रहीम ने कहा, ‘हम हैं, हम थे और हम ही गद्दी पर रहेंगे। ये दोनों तरह की घोषणा राम रहीम ने यूपी के बागपत में मौजूद बरनावा आश्रम में साधु संगत को संबोधित करते हुए की।

पत्रकार की हत्या और शिष्यों से बलात्कार में काट रहा सजा।

डेरा प्रमुख बागपत में डेरा के बरनावा आश्रम से केवल ऑनलाइन सत्संग कर रहा है। राम रहीम को पिछले साल चार अन्य लोगों के साथ डेरा प्रबंधक रंजीत सिंह की हत्या की साजिश रचने के आरोप में भी दोषी ठहराया गया था। डेरा प्रमुख और तीन अन्य लोगों को 16 साल से भी अधिक समय पहले एक पत्रकार की हुई हत्या के मामले में 2019 में दोषी करार दिया गया था।
इसके अलावा उसे अपने दो शिष्याओं से बलात्कार के जुर्म में भी सजा दी गई।