पटना के महावीर मंदिर में 1 महीने में 1 लाख किलो से अधिक बीका लड्डू। करोड़ रुपए से अधिक का चढ़ावा।

कोरोना काल के बाद से मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ रही है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि राजधानी पटना स्थित महावीर मंदिर में नैवेद्यम( लड्डू) की रिकॉर्ड तोड़ बिक्री हुई है। मंदिर के इतिहास में पहली बार एक महीने में एक लाख किलो नैवेद्यम बिका। अप्रैल 2022 में लगभग 1.19 लाख किलोग्राम नैवेद्यम की बिक्री हुई। वहीं, मई महीने में भी यह आंकड़ा 1 लाख 17 हजार किलो रहा।

तिरुपति बालाजी के बाद सबसे ज्यादा बिक्री।

वहीं जून महीने के पहले 15 दिनों तक 58 हजार 822 किलोग्राम नैवेद्यम की बिक्री हो चुकी है। आंध्र प्रदेश में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर के बाद पटना के महावीर मंदिर में सबसे ज्यादा लड्डू की बिक्री होती है। महावीर मंदिर न्यास के सचिव किशोर कुणाल ने कहा कि 1992 से मंदिर में नैवेद्यम की बिक्री हो रही है। शुरुआत में हर महीने 500 किलोग्राम लड्डू बेचा जाता था। जो धीरे-धीरे बढ़ता चला गया। उन्होंने कहा कि कोरोना काल बीतने के बाद मंदिर में श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ उमड़ रही है।

एक करोड़ से अधिक का चढ़ा चढ़ावा।

जानकारी के अनुसार भगवान हनुमान को समर्पित प्रसिद्ध महावीर मंदिर के दान पात्रों में आई चढ़ावे की राशि में भी बढ़ोतरी हुई है। पहले रोजाना 1 लाख रुपये चढ़ावा आता था। मगर बीते ढाई महीनों से इसमें बढ़ोतरी हुई है। अब रोजाना करीब डेढ़ लाख रुपये का दान आ रहा है। बीते ढाई महीने में मंदिर के दान पात्रों में 1.12 करोड़ रुपये से ज्यादा का चढ़ावा मिल चुका है। इसके अलावा अलग-अलग मदों से भी करीब 96.67 लाख रुपये का दान आया है।