पटना के संजय गांधी जैविक उद्यान को मिला देश में चौथा स्थान। नेशनल जू कॉन्फ्रेंस में जारी की गई रिपोर्ट।

राजधानी पटना स्थित संजय गांधी जैविक उद्यान जिसे पटना जू और चिड़ियाघर के नाम से भी जाना जाता है ने पूरे देश में चौथा स्थान प्राप्त किया है। सेंट्रल जू ऑथोरिटी की प्रबंधन प्रभावशीलता मूल्यांकन (एमइइ) रिपोर्ट-2022 में पटना जू को 74% स्कोर के साथ ही चौथा रैंक दिया गया है। यह रिपोर्ट सेंट्रल जू ऑथोरिटी की ओर से भुवनेश्वर में आयोजित नेशनल जू कॉन्फ्रेंस में केंद्रीय केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव, राज्यमंत्री अश्विनी चौबे और सेंट्रल जू ऑथोरिटी के मेंबर सेक्रेटरी संजय शुक्ला ने की। बता दें कि पटना जू में अफ्रीका से दर्जनों जानवरों को लाने की तैयारी चल रही है।

रिपोर्ट में इनको भी मिला स्थान।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एमइइ रिपोर्ट-2022 में तमिलनाडु के अरिगनार अन्ना जूलॉकिल पार्क को 84% स्कोर के साथ पहला, कर्नाटक के श्री चामराजेंद्र प्राणी उद्यान को 80% रेटिंग के साथ दूसरा और गुजरात के सक्करबाग जूलॉजिकल पार्क को 76% स्कोर के साथ तीसरा स्थान मिला है। इन तीनों चिड़ियाघर को वेरी गुड ग्रेड मिला है। वहीं, पटना जू को गुड ग्रेड मिला है। हाल ही में बिहार के पर्यावरण एवं वन मंत्री तेज प्रताप यादव ने इसका निरीक्षण कर साफ सफाई का विशेष ख्याल रखने को कहा था।

6 मानकों पर तय हुई है रेटिंग।

मंत्रालय की ओर से किये गये सर्वेक्षण में छह अलग-अलग पैरामीटर के आधार पर रैंकिंग दी गयी। इनमें सफाई, विजिटर्स फैसिलिटी, एनिमल कंजर्वेशन, ब्रीडिंग क्वालिटी व आउटकम शामिल हैं। 15 विशेषज्ञों की समिति ने इन मानकों पर रैंकिंग दी है। वर्तमान में देश में कुल 147 मान्यताप्राप्त चिड़ियाघर हैं। इनमें बड़े, मध्यम, छोटे चिड़ियाघर और बचाव केंद्र शामिल हैं।