पटना नहीं बिहार का यह जिला बना 100% डिजिटल बैंकिंग वाला जिला। अन्य 2 जिले भी कतार में शामिल।

देश में इंटरनेट के प्रचार प्रसार के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने के लिए बैंक भी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। लोग जमकर डिजिटल बैंकिंग सेवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। बिहार में जहानाबाद 100% डिजिटल बैंकिंग इस्तेमाल करने वाला जिला बन गया है। पायलट प्रोजेक्ट के तहत चलाए गए अभियान के कारण इसका असर दिखा है। जल्द ही अरवल और शेखपुरा शत प्रतिशत डिजिटल बैंकिंग वाले जिला बनने वाले हैं।

कुछ ऐसा है जहानाबाद जिले का हाल।

जहानाबाद जिले में कुल 1035126 सक्रिय खाताधारकों में से 1031235 के पास कम से कम एक डिजिटल बैंकिंग उत्पाद यानी इंटरनेट बैंकिंग, डेबिट कार्ड, मोबाइल बैंकिंग, यूपीआइ और दूसरी इसी तरह की सुविधाएं हैं। यह कुल सक्रिय खाता का 99.65 फीसदी है। अगर करेंट खाता की बात करें तो जिले में करीब 17944 खाता हैं, जिनमें 11887 खाताधारक इंटरनेट बैंकिंग, 4452 पोओएस या क्यूआरे कोड और 8450 मोबाइल बैंकिंग सेवा का उपयोग करते हैं। अरवल में 609662 बैंक खाते हैं,जिसमें से सक्रिए खाते हैं 552221, इसका लगभग 90.58% डिजिटल उत्पाद से जुड़े हुए हैं। जबकि शेखपुरा में अभी तक 89.18% खाते डिजिटल उत्पाद से जुड़े हैं।

2019 में शुरू हुई थी योजना।

बता दें कि केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक ने देश के प्रत्येक राज्य में कम से कम एक जिला को सौ फीसदी डिजिटल बैंकिंग सेवा वाला जिला बनाने का निर्णय 2019 में लिया था। बिहार में इसके तहत जहानाबाद जिला का चयन किया गया और राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति ने सभी हिस्सेदार (स्टेकहोल्डर) के साथ रणनीति बनाकर काम किया और जहानाबादडिजिटल बैंकिंग वाला जिला घोषित किया है।