बच्चों को किताब खरीदने के लिए बिहार सरकार ने जारी किए 416 करोड़। सीधा छात्रों के खाते में जाएंगे पैसे।

कक्षा 1 से 8 तक सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छात्र- छात्राओं को किताब खरीदने के लिए बिहार सरकार के शिक्षा विभाग ने 416 किलो रुपए जारी किए हैं। शैक्षणिक सत्र 2022-23 की शुरुआत हो चुकी है बावजूद इसके छात्रों के पास अभी किताबें नहीं है। लेकिन अब 1.34 करोड़ बच्चों के खाताें में डीबीटी के जरिये पैसा भेजा जाएगा। बताया जा रहा है कि अगले एक हफ्ते में सभी छात्रों के खाते में रुपए पहुंच जाएंगे।

बाजार में किताबें नहीं है उपलब्ध।

हालांकि बाजार में अभी सरकारी प्रकाशन की सभी किताबें नहीं मिल रही हैं। दरअसल, नयी किताबें अभी छपी नहीं हैं। बाजार में छिटपुट जो भी किताबें मिल रही हैं, वे पिछले साल की बची हुई हैं। फिलहाल गर्मियों की छुट्टियां होने की वजह से प्रिंटर्स के पास मौका है कि वे किताबें बाजार में उपलब्ध करा सकें। हालंकि गर्मी की छुट्टियां शुरू हो चुकी है ऐसे में स्कूल बंद है। ऐसे ने प्रकाशक के पास मौका है कि वे जरूरत के हिसाब से किताब छाप सकें।

छात्रों को मिलेंगे इतने रुपए।

बता दें कि शैक्षणिक सत्र 2021-22 में किताबें खरीदने के लिए बच्चों के खातों में 402.71 करोड़ रुपये भेजे गये थे। पिछले सत्र में बच्चों की संख्या 1.29 करोड़ थी। मालूम हो कि कक्षा एक से पांच तक के प्रति विद्यार्थी 250 रुपये और कक्षा छह से आठ तक के विद्यार्थियों को किताब खरीदने के लिए 400 रुपये दिये जाते हैं।