बायोमैट्रिक अटेंडेंस के विरोध में बिहार के सभी सरकारी डॉक्टर हड़ताल पर। बाधित रहेगी ओपीडी सेवा।

धीरे-धीरे बिहार सरकार सरकारी कॉलेज और स्कूलों के अलावा अस्पतालों में भी बायोमैट्रिक अटेंडेंस सिस्टम लागू करने जा रही है ताकि कोई भी सरकारी कर्मचारी प्रोक्सी हाजिरी लगाकर ड्यूटी से गायब ना रहे। इसके अलावा समय पर ड्यूटी पर पहुंचे। इसी का विरोध एवम अन्य 11 सूत्री मांगों को लेकर बिहार के डॉक्टर कल हड़ताल पर रहेंगे। इससे सूबे भर के अस्पतलों में ओपीडी सुविधा बाधित रहेगी।

बाधित रहेगी ओपीडी, इमरजेंसी सेवा चालू।

बिहार स्वास्थ्य संघ के महासचिव डॉ रंजीत कुमार ने बताया कि सभी डॉक्टर ओपीडी का बहिष्कार करेंगे, लेकिन आपातकालीन स्वास्थ्य सुविधा बहाल रहेगी। उन्होंने बताया कि हड़ताल की सूचना स्वास्थ विभग के अपर मुख्य सचिव सभी सिविल सर्जन को दे दी गयी है। सूबे के सभी अस्पतालों में गुरुवार को ओपीडी में इलाज बंद रहेगा। हालांकि इमरजेंसी वार्ड में डॉक्टर तैनात रहेंगे। ऐसे में मरीजों को दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। राज्य के सभी अस्पतालों पर हड़ताल का असर पड़ेगा।

स्वास्थ्य संघ की बीते दिनों हुई मीटिंग में निर्णय लिया गया है कि सूबे के डॉक्टर गुरुवार को हड़ताल करेंगे। बिहार स्वास्थ्य संघ ने 11 सूत्री मांग की है। संघ ने बायोमेट्रिक अटेंडेंस लागू करने का विरोध किया है। बिहार स्वास्थ्य संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि सरकार अगर मांगों को जल्द से जल्द नहीं मानती है तो सूबे के डॉक्टर अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे।