बिहार के लाल का साउथ अफ्रीका के खिलाफ वन वनडे सीरीज के लिए हुआ चयन। पिता कोलकाता में चलाते थे ऑटो।

क्रिकेट ऐसा गेम है जिसमें साधारण घर पर बच्चों ने भी अपनी मेंहनत के बदौलत नाम कमाया है। बिहार में भले ही ट्रेनिंग संबंधी अच्छी सुविधा नहीं है ना ही क्रिकेट बोर्ड की मान्यता है। लेकिन बिहार के एक लाल ने कोलकाता में रहकर खुद को तैयार किया और बंगाल टीम की तरफ से रणजी खेलते हुवे आज टीम इंडिया के लिए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में खेलने जा रहे हैं। बीसीसीआई ने 6 अक्टूबर से शुरू होने वाले वनडे सीरीज के लिए टीम की घोषणा कर दी है। जिसमे बिहार के रहने वाले मुकेश कुमार का भी चयन किया गया है।

गोपालगंज के रहने वाले हैं मुकेश।

बता दें कि मुकेश कुमार गोपालगंज जिले के एक छोटे से गांव काकड़कुंड के रहने वाले हैं। मुकेश कुमार क्रिकेट टीम में बतौर तेज गेंदबाज के रूप में खेलेंगे। गोपालगंज जिले के 50 वां स्थापना दिवस के दिन ही बीसीसीआई द्वारा इसकी घोषणा की गई। मुकेश के चयन होने से क्षेत्र के लोगों में खुशी की लहर है।डीएम डॉ नवल किशोर चौधरी, एसपी आनंद कुमार ने क्रिकेटर मुकेश कुमार को बधाई दी है।

पिता कोलकाता में चलाते थे ऑटो।

मुकेश कुमार एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं। पिता स्व. काशीनाथ सिंह कोलकाता में ऑटो चलाते थे। माता गृहणी हैं। मुकेश कुमार गांव में मोहल्लों के बच्चों के साथ क्रिकेट खेलते हुए इस मुकाम पर पहुंच गए हैं। मुकेश कुमार के इंडिया टीम में चयन होने की खबर मिलते ही परिजनों में खुशी है। इसके अलावा जिला वासियों और क्रिकेट प्रेमी बिहार के लिए गौरव मानकर बधाई दे रहे हैं।

कोलकाता में खुद को किया तैयार।

मुकेश गोपालगंज के गांव में ही क्रिकेट खेलते थे। गोपालगंज टीम के लिए खेलते समय उन्हें एक सीनियर खिलाड़ी ने जिला टीम में पहुंचाया। उसके बाद स्टीयरिंग कमिटी का अंडर 19 क्रिकेट टूर्नामेंट में मुकेश ने बिहार का प्रतिनिधित्व किया, लेकिन दुर्भाग्य से बिहार में क्रिकेट बोर्ड की मान्यता नहीं होने के कारण उन्होंने बंगाल का रुख किया और वहां से कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।