बिहार को इस वजह से नहीं मिल रही तय कोटे जितनी बिजली। कई इलाकों में हो रहा लोड शेडिंग।

इन दिनों दक्षिण बिहार के इलाकों में बारिश ना होने के कारण गर्मी और उमस से लोग परेशान हो रहे हैं। इसके बीच समय-समय पर बिजली कटौती भी हो रही है जिससे लोगों की परेशानी और बढ़ रही है। चल एनटीपीसी से तय बिहार के कोटे के मुताबिक बिजली ना मिल पाने के कारण लोड शैडिंग की समस्या आ रही है। वार्षिक मरम्मत कार्यों की वजह से कई इकाइयों में बिजली उत्पादन बंद रहा इस कारण बिहार केंद्रीय कोटे से 500 मेगावाट बिजली कम मिली।

खुले बाजार से नहीं मिली बिजली तो हुई कटौती।

कंपनी अधिकारियों के अनुसार केंद्रीय सेक्टर से 500 मेगावाट बिजली कम मिली। कंपनी ने खुले बाजार से बिजली लेने के लिए बोली लगाई, लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी। आलम यह रहा कि कंपनी की ओर से 200 मेगावाट बिजली लेने के लिए बोली लगाई जाती पर मात्र 20 मेगावाट बिजली ही उपलब्ध हो पाई। इस वजह से पीकआवर में 500 मेगावाट बिजली की किल्लत रही। कम बिजली मिलने के कारण राजधानी सहित राज्य के सभी इलाकों में बिजली की लोडशेडिंग हुई।

जल्द ठीक हो जाएगी बिजली सप्लाई की व्यवस्था।

जिलों को जरूरत से कम बिजली दी गई। इस कारण राज्य के प्राय सभी शहरों के साथ ही ग्रामीण इलाकों में भी लोडशेडिंग हुई। इससे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। एनटीपीसी के अनुसार शेड्यूल ओवरहॉलिंग के कारण बिहार को तय आवंटन से कुछ कम बिजली दी गई। इन यूनिटों के चालू होने से बिहार को कोटा के अनुसार पूरी बिजली दी जाएगी।