सीएम नीतीश पहुंचे दिल्ली। इस मुद्दे पर प्रतिनिधिमंडल के साथ करेंगे पीएम मोदी से मुलाकात।

सूबे मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार आज पीएम मोदी के साथ मुलाकात करने दिल्ली पहुंच चुके हैं। आज 11:00 बजे के बाद उनकी प्रधानमंत्री से मुलाकात होनी है। उनके साथ में बिहार से पूरा एक प्रतिनिधिमंडल गया है। इसमें विपक्ष के लोग भी शामिल हैं। प्रतिनिधिमंडल में शामिल लोगों में सीएम नीतीश कुमार, नेता प्रतिपक्ष और राघोपुर से विधायक श्री तेजस्वी यादव, कांग्रेस के अजीत शर्मा, भाकपा माले के महबूब आलम, हम के जीतन राम मांझी, वीआईपी पार्टी के मुकेश सहनी, जेडीयू के विजय कुमार चौधरी, भाजपा के जनक राम, भाकपा के सूर्यकांत पासवान और माकपा के अजय कुमार शामिल हैं। आपको बता दें कि बिहार का यह पूरा प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री से जातीय जनगणना कराने की मांग करेगा। इस मुद्दे पर प्रदेश की सारी पार्टियां एकजुट है।

बता दें कि सीएम नीतीश कुमार पहले भी जातीय जनगणना के पक्ष में खुलकर बोलते रहे हैं। उन्होंने कहा था कि एक बार जाति आधारित जनगणना कराना जरूरी है। ताकि पता लग सके कि किस समाज के कितने लोग हैं, कितने लोगों तक हमारी सुविधाएं पहुंची हैं। उनका सामाजिक उत्थान हुआ है या नहीं। उन्होंने कहा था कि, यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है और हम लंबे समय से इसकी मांग कर रहे हैं। अगर यह हो जाता है, तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। इसके अलावा, यह सिर्फ बिहार के लिए नहीं होगा, पूरे देश में लोगों को इससे फायदा होगा। इसे कम से कम एक बार किया जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड भाजपा की सहयोगी पार्टी है। और जेडीयू लगातार इस मामले को उठा रही है। इसके अलावा प्रदेश के अन्य पार्टियां भी जातीय जनगणना के पक्ष में है। गौरतलब हो कि 30 जुलाई को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी सीएम श्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी। अगले वर्ष 7 राज्यों में प्रदेश चुनाव होने वाले हैं। इसी के मद्देनजर सरकार जातीय जनगणना कराने को लेकर असमंजस की स्थिति में है कि शायद यह जाति आधारित जनगणना के आंकड़े चुनाव को प्रभावित ना कर दे