बचपन में अफसरों की कहानी पढ़कर लिया अफसर बनने का प्रण,मुश्किलों के आगे नहीं मानी हार,पढ़िए UPPCS 2023 की टॉपर दिव्या सिकरवार की कहानी

उत्तर प्रदेश आगरा की बेटी ने परिवार का ही नहीं पूरे जिले का नाम रोशन किया है। यूपीएससी 2023 की परीक्षा में दिव्या सिकरवार की पहली रैंक आई है। उन्होंने यह सफलता तीसरे प्रयास में हासिल की है। जब रिजल्ट जारी हुआ तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। घर पर देर रात शुभकामनाएं देने वालों का तांता लगा रहा। यूपीएसपी के टॉप टेन में आगरा की दो बेटियों ने बाजी मारी है। दिव्या पहली तो एश्वर्या दुबे ने आठवीं रैंक हासिल की है।

आगरा एत्मादपुर तहसील के गांव रामी गढ़ी की रहने वाली दिव्या सिकरवार के पिता राजपाल सिंह बीएसएफ से रिटायर्ट हैं और वे अब गांव में खेती करते हैं। उनके तीन बच्चे हैं जिनमें दिव्या सिकरवार सबसे बड़ी है। उसकी उम्र 26 वर्ष है। दिव्या के छोटे भाई दीपक यूपी पुलिस में कॉन्स्टेबिल है। एनबीटी से बात करते हुए दिव्या ने बताया कि उन्होंने ग्रेजुएशन से ही तय कर लिया था कि उन्हें प्रशासनिक अधिकारी बनना है। इसके लिए उन्होंने 2016 में सेंट जोंस कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद यूपीएससी की तैयारियों में जुट गईं और तीसरे प्रयास में सफलता हासिल कर ली।

images 2023 04 09T193834.752

ग्रामीण महिलाओं को दिलाने हैं अधिकार
दिव्या सिकरवार ने कहा कि वे ग्रामीण क्षेत्र की रहने वाली हैं। उन्होंने ग्रामीण महिलाओं के जीवन को करीब से देखा है। ग्रामीण महिलाओं के सामने सामाजिक बंधन अवरोधक बनते हैं। सरकारी योजनाओं से वंचित रहने वाली महिलाओं के लिए वे काम करेंगी। उनकी पढ़ाई के लिए वे अपनी मां सरोज देवी को श्रेय देती हैं। उन्होंने पढ़ाई के खूब प्रेरित किया।

तीसरे प्रयास में पाई सफलता
दिव्या ने अपनी पढ़ाई यूपी बोर्ड से की है। वर्ष 2011 में हाईस्कूल और 2013 में इंटर की परीक्षा उत्तीर्ण की। दिव्या ने बताया कि वह रोजाना अखबार पढ़ती थी। अखबारों में जब अधिकारियों की कार्यशैली और उनकी कार्रवाई को देखती थीं तो उन्हें अफसर बनने की इच्छा पैदा हुई। बस इसके बाद मन में ठान लिया कि यूपीएससी करना है। ऑनलाइन यूपीएससी की पढ़ाई की और तीसरे प्रयास में सफलता मिल गई। जबकि 2021 में इंटरव्यू में रह गई और 2020 में मैंन्स भी क्वालिफाई नहीं कर पाई थीं।

Service